Norani Quranic Amal For Love | apne peyar ko pane ka amal

Norani Quranic Amal For Love

Norani Quranic Amal For Love:

अमल का तज़र्बा खुद नहीं किया मगर एक बुज़ुर्ग से मिला जो खुद इसके आमिल थे जो लोग इस तरह के अम्लियत के शौक़ रखते हैं वह तज़र्बा करें . एक डब्बा में बारिश के पानी में गुंधी होये रख भर कर निस्फ़ डब्बा ज़मीन में गर्र दें .

फिर मुर्ग़ी के अंडे (एग ) पैर एक तरफ तालिब का नाम लिखो और (بالعصاص عصعاس) लिखो दूसरी तरफ नाम मतलूब और (سبب سباب) लिखो और इसी तरह (2) कगहज के टुकड़े पैर लिखो और लेककरि की आग जलाओ डब्बा के सामने बेथ कर अमल पढ़ो :

تریاق قسمت علیک بش شا ان یا شنشارن قسمت علیک بالعصاص عنصعاص قسمت علیک بسبب سباب احضر فی الخطور الکلوس المرید یا خطاب لم حل بصر العجل اخطف (یہاں نام مطلوب مع والدہ لے) احبت الیک الخایتہ ان تکون ظھیرا اذھب الی (یہاں نام مطلوب مع والدہ لے) ویفعل مضطربا و مسحورا فی محبتی

अंडे पैर डैम करे डब्बा पैर अंडा रख दें फिर दोसरा चक्र्र वहां रखो और उठ जाओ घुसल करो और (100) मर्तबा अलग बेथ कर आयत मुबारिक पढ़ो :

لقَدْ جَآءَكُمْ رَسُولٌۭ مِّنْ أَنفُسِكُمْ عَزِيزٌ عَلَيْهِ مَا عَنِتُّمْ حَرِيصٌ عَلَيْكُم بِٱلْمُؤْمِنِينَ رَءُوفٌۭ رَّحِيمٌۭ فَإِن تَوَلَّوْا۟ فَقُلْ حَسْبِىَ ٱللَّهُ لَآ إِلَهَ إِلَّا هُوَ عَلَيْهِ تَوَكَّلْتُ وَهُوَ رَبُّ ٱلْعَرْشِ ٱلْعَظِيمِ

और हर मर्तबा डब्बा की तरफ इशारा करते जाओ बाद अमल देखो अगर अंडे की ज़र्दी ग़ायब हे तो अमल कामयाब होआ और जल्द से जल्द तुम्हारा मतलूब बी ’क़रार हो कर तुम्हरे पास आ जाये गए . अगर ज़र्दी ग़ायब ना हो तो समझ लो तुम्हारे मुक़द्दर में मतलूब का हासिल होना नहीं हे .

Note: इजाज़त इ अमल ज़रूरी हे बिना इजाज़त हरगिज़ मत करें .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *